Tehzeeb Hafi Poetry

Tehzeeb Hafi Poetry

Tehzeeb Hafi Poetry
Tehzeeb Hafi Poetry

उस की मर्ज़ी वो जिसे पास बिठा ले अपने,
इस पे क्या लड़ना फलाँ मेरी जगह बैठ गया।
तहज़ीब हाफ़ी

Us Ki Marzi Vo Jise Paas Bitha Le Apane,
Is Pe Kya Ladana Phalaan Meri Jagah Baith Gaya.
Tehzeeb Hafi

Tehzeeb Hafi Poetry

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है मोहब्बत – वोहब्बत बड़ा जानते हो
तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो

ये ज्योग्राफिया, फ़लसफ़ा, साइकोलाॅजी, साइंस, रियाज़ी वगैरह
ये सब जानना भी अहम है मगर उसके घर का पता जानते हो ?

तहज़ीब हाफ़ी

Tumhen Husn Par Dastaras Hai, Mohabbat Vohabbat Bada Jaanate Ho,
To Phir Ye Batao Ki Tum Usaki Aankhon Ke Baare Mein Kya Jaanate Ho?
Tehzeeb Hafi

<< Tehzeeb Hafi >>

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3