बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी

बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी

बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी
बशीर बद्र की चुनिंदा शायरी

बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहाँ दरिया समुंदर से मिला दरिया नहीं रहता
बशीर बद्र

Bade Logon Se Milane Mein Hamesha Faasala Rakhana
Jahaan Dariya Samandar Se Mila Dariya Nahin Rahata
Bashir Badr

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों
Bashir Badr

Dushmani Jam Kar Karo Lekin Ye Gunjaish Rahe
Jab Kabhi Ham Dost Ho Jayen To Sharminda Na Hon
Bashir Badr

<< Bashir Badr Shayari >>

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top

Download Image

 Please wait while your url is generating... 3